बैलेट पेपर से मतदान कराने आखिर क्यों डर रही है भाजपा, विश्वसनियता पर उठ रहे सवाल

  • कांग्रेस बैलेट पेपर से उपचुनाव में मतदान की कर रही मांग
  • पूर्व निवार्चन आयुक्त ने कहा इव्हीएम सु​रक्षित पर अंतिम फैसला चुनाव आयोग का

भोपाल. मध्यप्रदेश में उपचुनाव में इव्हीएम मशीन से मतदान को लेकर सियासत गरमा रही है। एक ओर कांग्रेस लगातार कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए बैलेट पेपर से मतदान की मांग कर रही है वहीं भाजपा सुरक्षा और सावधानी पूर्वक इव्हीएम मशीन से मतदान पर अड़ी हुई है। गौरतलब है कि इव्हीएम मशीन से मतदान पर निष्पक्ष चुनाव को लेकर लगातार सवाल उठते आ रहे हैं जिसके चलते कांग्रेस के पूर्व मंत्री और वर्तमान विधायक सज्जन सिंह वर्मा ने मुख्य चुनाव आयुक्त को पत्र लिखकर बैलेट पेपर से मतदान कराने की बात कही थी।

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त का बयान
पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत का बड़ा बयान आया है। उन्होंने कहा ​है कि कोरोना महामारी के बीच सतर्कता के साथ चुनाव कराना मुमकिन है। इव्हीएम मशीन से मतदान कराने की बात को लेकर कहा कि उपचुनाव में मतदान हर जगह ईवीएम से भी सावधानियों के साथ कराए जा सकते हैं जिस तरह साउथ कोरिया पोलैंड वियतनाम और श्रीलंका ने इस वैश्विक महामारी के बीच ही सफलता पूर्वक चुनाव कराएं हैं। ईवीएम से सुरक्षित चुनाव कराने के लिए हर तरह की सावधानियां रखी जाएंगी जैसे सैनिटाइजर और डिस्पोजल हैंड ग्लब्स का किया जा सकता है जिससे संक्रमण फैलने का डर कम हो जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव कराने का अंतिम निर्णय चुनाव आयोग को लेना होगा। वर्तमान परिस्थितियों में भी चुनाव कराना मुमकिन है।

कांग्रेस की यह है मांग

पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त को पत्र लिखकर श्रीलंका की तर्ज पर बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की है। श्री वर्मा ने पत्र में कहा ​है कि कोरोना वायरस के संक्रमण का बहाना बनाकर प्रदेश सरकार चुनाव को टालने का प्रयास कर है जिससे लोकतांत्रिक व्यवस्था पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है। 5 अगस्त को पडोसी देश श्रीलंका में संसदीय चुनाव बैलेट पेपर से सम्पन्न कराए गए हैं जिसमें मतदान प्रतिशत 71 के करीब रहा है। सभी मतदाताओं ने अपने अपने पेन से ही मतदान पर्ची पर चिन्ह लगाया है। इसके साथ ही सेनीटाइजर का उपयोग किया और सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया है। मध्यप्रदेश में भी उपचुनाव में मतदाताओं के लिए भी इस तरह चुनाव प्रक्रिया सम्पन्न करवा कर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाया जा सकता है।

Leave a Comment