उदयन ने हत्या के बाद माता, पिता और प्रेमिका को सोशल मीडिया पर जीवित रखा था; पुलिस को गुमराह करने के लिए एक साथ कई जिंदगियां जीता था

भोपाल में अपनी लिव इन पार्टनर आकांक्षा और रायपुर में अपने माता-पिता की हत्‍या कर दफन करने वाला सीरियल किलर उदयन दास एक साथ कई जिंदगियां जीता था। इसके लिए उसने अपने माता-पिता और प्रेमिका आकांक्षा को सोशल मीडिया पर जीवित रखा था। वह उनके नाम के फेसबुक अकाउंट से खुद को ही- कैसे हो बेटा और जानू नाम से पोस्ट करता था। आकांक्षा की गुमशुदगी के बाद कोलकाता की बांकुरा पुलिस भोपाल आई थी, लेकिन उन्हें कुछ हाथ नहीं लगा था। बाद में भोपाल पुलिस की मदद से इस पूरे हत्याकांड का खुलासा हो सका था। बांकुरा पुलिस ने उदयन के खिलाफ 30 अप्रैल 2017 को केस डायरी समेत करीब 600 पेज की चार्जशीट अदालत में पेश की थी। 19 गवाहों के बयान और सभी साक्ष्यों के आधार पर उसे उम्र कैद की सजा मिली।

साइकोपैथी पर्सनॉलिटी डिसऑर्डर का शिकार बताया गया
उस दौरान क्‍लिनकल साइक्‍लोजिस्‍ट ने उदयन दास का केस बिल्‍कुल चार्ल्‍स शोभराज जैसा बताया था। चार्ल्‍स शोभराज को एशिया का सबसे बड़ा सीरियल किलर कहा जाता है। वह भी साइकोपैथी पर्सनॉलिटी डिसऑर्डर का शिकार रहा। उदयन ने एक-एक कर तीन हत्याएं ही नहीं की थी, बल्कि पुलिस से बचने और उनके नाम पर आने वाले पैसों को भी बड़ी चलाकी से निकाल लिया था। बताया जाता है कि उसके दिमाग में बचपन से ही माता-पिता के खिलाफ गुस्सा भर गया था।

Leave a Comment