वरिष्ठ भाजपा नेता व पूर्व मंत्री अग्रवाल ने थामा कमलनाथ का हाथ

-गुना जिले की बमोरी विधानसभा क्षेत्र से उपचुनाव में उम्मीदवार बनाए जाने की प्रबल संभावना

भोपाल. गुना जिले से वरिष्ठ भाजपा नेता व पूर्व मंत्री केएल अग्रवाल गुरुवार को शिवराज का साथ छोड़ कमलनाथ का हाथ थाम लिया है. प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पूर्व मंत्री ने कमलनाथ के हाथों कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की. अब बमोरी विधानसभा सीट में होने वाले उपचुनाव में उनको उम्मीदवार बनाए जाने की संभावना प्रबल है.
प्रदेश भाजपा को गुरुवार को एक बड़ा झटका लगा है. आरएसएस और भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व मंत्री कन्हैया लाल अग्रवाल गुरुवार को कांग्रेस में शामिल हो गए. 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में इस सीट से कांग्रेस प्रत्याशी महेंद्र सिंह सिसोदिया जीते थे.
बतादें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक महेंद्र सिंह सिसोदिया ने विधानसभा से त्यागपत्र दे दिया था और भाजपा में शामिल हो गए थे. जिसके चलते बमोरी में उपचुनाव होना है. सिसोदिया भाजपा सरकार में मंत्री हैं और उनका भाजपा उम्मीदवार बनना तय है. गुरुवार को भाजपा नेता और पूर्व मंत्री कन्हैया लाल अग्रवाल ने अपने साथियों के साथ भोपाल स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कांग्रेस की सदस्यता ली. पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने उन्हें सदस्यता दिलवाई. कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस का झंडा प्रदेश में फिर लहराएगा. आने वाला उपचुनाव मध्य प्रदेश का भविष्य है, सत्ता में आने पर हम पूरा कर्जा माफ करेंगे. उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधा. कहा- वे बिकाऊ माल अपने साथ ले गए हैं. उपचुनाव के लिए यह सौदेबाजी हुई है.

कांग्रेस के सर्वे में अग्रवाल बने पहली पसंद
सूत्रों के अनुसार कांग्रेस ने उपचुनाव वाली 24 विधानसभा क्षेत्रों में सर्वे कराया है. बमोरी सीट पर लोगों ने केएल अग्रवाल को पहली वरीयता दी है. कमलनाथ को रिपोर्ट मिलते ही उन्होंने सीधे अग्रवाल से बात की और भोपाल बुलाया. कन्हैया लाल अग्रवाल अग्रवाल शिवराज सरकार के पिछले कार्यकाल में मंत्री रह चुके हैं. बताया जा रहा है कि अग्रवाल को कांग्रेस में शामिल कराने में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है.

Leave a Comment