अब अध्यादेश के जरिए आएगा प्रदेश में बजट का प्रस्ताव

-पहली बार हुआ कि अधिसूचना जारी होने के बाद मानसून सत्र किया गया हो स्थगित

भोपाल. कोरोना वायरस की वजह से विधानसभा का मानसून सत्र स्थगित कर दिया गया है. मानसून के इस सत्र में राज्य सरकार बजट प्रस्ताव पेश करने वाली थी. शुक्रवार को सर्वदलीय हुई बैठक में सत्र टालने का फैसला किया गया. अब सरकार अध्यादेश के जरिए खर्च की व्यवस्था करेगी. ऐसा पहली बार हो रहा है कि अधिसूचना जारी होने के बाद मानसून सत्र स्थगित किया गया हो. यह सत्र 20 से 24 जुलाई तक चलना था. गौरतलब है कि करीब 6 विधायक और कई अधिकारी-कर्मचारी कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं. इसी को ध्यान में रखते हुए प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने बैठक बुलाई थी. इसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री व नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ, संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा, पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा आदि मौजूद थे. स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव फैज अहमद किदवई को भी बैठक में बुलाया गया. उन्होंने प्रदेश में कोरोना की स्थिति के बारे में जानकारी दी. शिवराज सिंह ने कहा कि जो नियम जनता के लिए बनाए है, मंत्री व विधायकों को भी उसका पालन करना चाहिए।

इस तरीके से होगी बजट की व्यवस्था

वित्तीय वर्ष 2020-21 का बजट विधानसभा में नहीं आ पाया था. लेखानुदान अध्यादेश के माध्यम से 1 अप्रैल से 31 जुलाई तक के खर्च के लिए एक लाख 66 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया था.अब एक अगस्त से खर्च के लिए बजट लाना संवैधानिक बाध्यता थी.

Leave a Comment