कोरोना की वजह से मानसून सत्र हुआ स्थगित

सर्वदलीय बैठक में हुआ निर्णय, 20 जुलाई से शुरू होना था सत्र

भोपाल. मध्यप्रदेश विधानसभा का 20 जुलाई से शुरू होने वाला मानसून सत्र कोरोना की भेंट चढ़ गया. शुक्रवार को विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा की अध्यक्षता में हुई सर्वदलीय बैठक में इसे स्थगित करने का निर्णय लिया गया. सर्वदलीय बैठक में खास बात यह रही की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ आमने-सामने बैठे। सर्वदलीय बैठक में प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा, सीएम शिवराज और पूर्व सीएम कमलनाथ शामिल हुए.
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मीडिया से कहा कि कोरोना को लेकर मौजूदा परिस्थिति में सत्र चलाना उपयुक्त नहीं होगा. विधानसभा का मानसून सत्र 20-24 जुलाई के बीच होना था। इसमें 2020-21 बजट पेश किया जाना था और विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव होना था।
बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा, पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा और अन्य वरिष्ठ जनप्रतिनिधि भी मौजूद थे। जानकारी के मुताबिक, सर्वदलीय बैठक में तय किया गया कि भोपाल और अन्य शहरों में कोरोना के प्रकरण लगातार बढ़ने के मद्देनजर सत्र स्थगित किया जाना चाहिए। इस पर निर्णय ले लिया गया।
बजट चलाना नहीं था उपयुक्त
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मीडिया से कहा कि कोरोना को लेकर मौजूदा परिस्थितियों में सत्र चलाना उपयुक्त नहीं होगा. इसलिए अध्यक्ष से चर्चा के बाद सत्र स्थगित करने का फैसला किया गया. संवैधानिक कार्यों को पूर्ण करने के लिए हम लोग चर्चा करेंगे.
सत्र के दौरान वित्त वर्ष 2020-21 के लिए बजट भी पारित कराना था. अब बजट पारित करने के लिए अन्य संवैधानिक विकल्पों जैसे अध्यादेश के उपयोग पर भी विचार किया जाएगा. इसके पहले मार्च में भी सरकार ने चार महीने के लिए अध्यादेश लाकर खर्चे का इंतजाम किया था.

Leave a Comment