महाराष्ट्र और हरियाणा में मतदान आज, कांग्रेस को वापसी की उम्मीद

हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार को वोट डाले जाएंगे। सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक मतदान होगा। नतीजे 24 अक्तूबर को आएंगे। इसके अलावा 18 राज्यों की 51 विधानसभा और दो लोकसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए वोट डाले जाएंगे।
महाराष्ट्र की 288 सीटों पर 3,237 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिनमें से 235 महिलाएं हैं। यहां कुल 8,89,39,600 मतदाता हैं, जिनमें से 4,28,43,635 महिलाएं हैं। यहां 96,661 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं।

महाराष्ट्र विधानसभा
इस बार भी मुख्य मुकाबला भाजपा-शिवसेना गठबंधन और कांग्रेस-एनसीपी के बीच है। चुनाव प्रचार के दौरान इन दलों ने एक दूसरे पर हमले का कोई मौका नहीं छोड़ा। चुनाव प्रचार में भाजपा ने बाकी दलों को पीछे छोड़ दिया। भाजपा का तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह, नितिन गडकरी समेत कई दिग्गज नेता जुटे।

भाजपा ने वीर सावरकर को भारत रत्न देने का मुद्दा उछाला जिस पर सियासत गर्म रही। विपक्षी दलों ने इसे लेकर भाजपा को घेरा वहीं भाजपा ने हर रैली में सावरकर को भारत रत्न देने की मांग दोहराई। चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा ने पाकिस्तान और कश्मीर का मुद्दा भी जोर शोर से उठाया जिसके आगे कांग्रेस-एनसीपी कमजोर नजर आई।

हरियाणा विधानसभा
हरियाणा की 90 सीटों पर 1169 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं, इनमें से 104 महिलाएं हैं। यहां कुल 1.83 करोड़ वोटर हैं, जिनमें से 85 लाख महिलाएं हैं। यहां 19,578 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं। चुनाव आयोग ने दोनों राज्यों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। महाराष्ट्र में केंद्रीय बलों और राज्य पुलिस के तीन लाख जवानों को तैनात किया गया है, जबकि हरियाणा में 75000 से ज्यादा जवानों की तैनाती की गई है।

हरियाणा में इस बार मुकाबला एकतरफा नजर आ रहा है। भाजपा के मुकाबले कांग्रेस, जजपा, हजकां कमजोर नजर आ रहे हैं। यहां चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह समेत तमाम बड़े दिग्गज नजर आए। सांसद सनी देओल और हेमा मालिनी ने भी रोड शो किए।

कांग्रेस के लिए राहुल गांधी ने जोर लगाया और कई रैलियों को संबोधित किया। उनका मुख्य फोकस आर्थिक मंदी पर रहा और उन्होंने मोदी सरकार पर तीखे सवाल दागे। कांग्रेस में फूट के चलते वह कमजोर नजर आ रही है। मतदान के मद्देनजर यहां 75 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मियों को तैनात किया जाएगा।

दोनों ही राज्यों में भाजपा के सामने दोबारा सत्ता हासिल करने की चुनौती है। महाराष्ट्र में वह शिवसेना और अन्य छोटे दलों के साथ चुनाव लड़ रही है। वहां उसका मुकाबला कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन से है। वहीं हरियाणा में भाजपा और कांग्रेस के बीच मुख्य मुकाबला है। हालांकि कुछ सीटों पर जेजेपी की मौजूदगी से मुकाबला त्रिकोणीय माना जा रहा है।

Leave a Comment