लोकसभा चुनाव : तीन राज्यों के मुख्यमंत्रियों के कामकाज पर देशभर में चुनाव लड़ेगी कांग्रेस

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस पार्टी छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान के मुख्यमंत्रियों का चेहरा सामने कर उनके कामकाज के बखान के साथ देशभर में लोकसभा चुनाव लड़ेगी। तीनों राज्यों में बनी कांग्रेस सरकार ने किसानों की कर्जमाफी समेत घोषणापत्र के कई बिंदुओं पर फौरी निर्णय लिया है, इसे ही कांग्रेस त्वरित कामकाज का मॉडल बताएगी। यही वजह है कि पार्टी हाईकमान ने अब तक छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष को भी बदलने का मन नहीं बनाया है।

विधानसभा चुनाव में तीन राज्यों की जीत ने पूरे देश में कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं में उत्साह भरा है। सरकार बनने के बाद जिस तरह से तीनों राज्यों की कांग्रेस सरकार ने घोषणापत्र में किए वादों को पूरा करने की दिशा में कार्रवाई शुरू की, उससे जनता में भी उम्मीद जागी है। अभी तीनों राज्यों ने किसानों को पहली प्राथमिकता में रखा है, क्योंकि यह बड़ा वोट बैंक है। कांग्रेस को पता है कि किसानों को संतुष्ट कर दिया तो लोकसभा चुनाव में जीत की राह आसान की जा सकती है।

तीनों राज्यों की सरकार ने चंद घंटों के भीतर जिस तरह से कर्जमाफी पर निर्णय लिया, उसे ही हाईकमान सबसे बड़ी उपलब्धि बता रही है। इसकी ब्रांडिंग दूसरे राज्यों में भी की जा रही है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी खुद पिछले दिनों छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ओडिशा ले गए थे।

वहां दो सभाओं में राहुल ने तीनों मुख्यमंत्रियों की ब्रांडिंग करते हुए यह कहा कि कांग्रेस जो वादा कहती है, उसे पूरा करती है। इसी बात का हवाला देकर उन्होंने जनता से लोकसभा चुनाव में यूपीए की सरकार बनाने की अपील की। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री उत्तरप्रदेश, बिहार और ओडिशा का दूसरी बार दौरा कर चुके हैं। राहुल ने तीनों मुख्यमंत्रियों को दूसरे राज्यों में भी भेजने की तैयारी कर ली है।

Leave a Comment