बिजली का हो गया बुरा हाल, 24 घंटे में मिल रही तीन घंटे बिजली

-लगातार हो रही बिजली ट्रिपिंग से बढ़ी परेशानी, अघोषित कटौती से ग्रामीण क्षेत्र के लोग हो रहे परेशान

भांडेर. प्रदेश में भारी बिजली की समस्या से जूझ रहे ग्रामीणों को अब 24 घंटे में सिर्फ तीन घंटे ही बिजली मिल रही है. प्रदेश की भाजपा सरकार में बिजली का बुरा हाल हो गया है. अघोषित बिजली कटौती हो रही है. जिसके चलते ग्रामीणों कोे परेशानी का सामने करना पड़ रहा. मामला भांडेर का है. जहां पर अघोषित बिजली कटौती और भारी भरकम बिल से ग्रामीण परेशान है.

गर्मी व उमस से रहे परेशान
पर्याप्त बिजली नहीं मिलने से ग्रामीण गर्मी व उसम से परेशान है. इसके साथ ही खेती किसानी भी प्रभावित हो रही है. दिन और रात में कब बिजली गुल हो, कुछ नहीं कहा जा सकता है, कटौती का कोई रोस्टर ही नहीं है. सबसे अधिक बेचौनी लोगों को दोपहर से शाम बजे तक बनी रहती है. तहसील क्षेत्र के ग्राम पिपरौआ कलां और ग्राम सरसई में लगभग 10 दिन से बड़े पैमाने पर अघोषित विद्युत कटौती की जा रही है. कटौती से पीने के पानी की समस्या भी पैदा हो गई है.

रविवार को संपूर्ण लॉकडाउन के चलते सभी लोग घरों में कैद रह रहे, बावजूद 24 घंटे में मात्र तीन से चार घंटे थ्री फेस सप्लाई की गई. ग्राम पिपरौआ के निवासियों का कहना है कि दोपहर 3 बजे सेे 7 बजे तक थ्री फेस सप्लाई की जाती है, उसके बाद 12 बजे तक सिंगल फेस सप्लाई दी जा जा रही है. रात लगभग 12 बजे से विद्युत सप्लाई बंद कर दी जाती है. रविवार को रात्रि 12 बजे से विद्युत सप्लाई बंद है और सोमवार को दोपहर 3 बजे तक चालू नहीं की गई थी. सरसई के ग्रामीणों ने बताया कि बार-बार ट्रिपिंग की समस्या से परेशानी हो रही. न तो घर में सुकून है और न ही खेतों में काम हो रहा है. ग्रामीण इस मामले में एमडी से भी लिखित शिकायत कर चुके हैं. शिकायत के बावजूद विद्युत व्यवस्था में कोई सुधार नहीं हुआ. गांव में पिछले 15 दिनो से बिजली कि आख मिचौली चल रही है. जिसका कारण गांव में रखी ट्रांसफार्मर पर अधिक लोड डालना बताया गया है. गांव वालों का कहना है कि सरसई गांव उनाव सबस्टेशन के अंतर्गत आता है. जहां के जेई और लाईन मैन ने गांव में रखी चौबीस घंटे कि सप्लाई टुल्लू और पांच-पाच हॉर्सपावर के पंप को अवैध कनेक्शन दे रहे हैं.

Leave a Comment