शिवराज के मंत्री को नहीं शिक्षकों की नहीं जरूरत

-फ्री में लेे रहे 80 हजार हर माह वेतन, सोशल मीडिया में वायरल हुआ ऑडियो, कर्मचारियों के पास पहुंचते ही शुरू हुई आलोचना

भोपाल. प्रदेश में कांग्रेस की सरकार को हटाकर सत्ता पर काबिज होने वाले भाजपा की शिवराज सरकार के एक मंत्री का शिक्षकों कोे लेकर दिया गया बयान इन दिनों सोशल मीडिया में जमकर वारयल हो रहा है. जिसमें मंत्रीजी कह रहे हैं कि उन्हें शिक्षकों की जरूरत नहीं है. फ्री में हर माह 80 हजार रुपये वेतन ले रहे. इधर वायरल वीडियो जैसे ही शिक्षकों के पास पहुंचा, उससे कर्मचारियों में नाराजगी देखी जा रही है. वायरल ऑडियो में शिवराज सरकार के मंत्री अतिथि शिक्षक से कह रहे हैं कि सरकार आर्थिक संकट में हैं. हमें शिक्षकों की जरूरत नहीं हैं. वे 4-5 महीने से मुफ्त में 80 हजार रुपए तक वेतन ले रहे हैं. हमने तो अपनी वेतन सरकार को दे दी है, लेकिन उन्होंने नहीं दी है. ऑडियो जैसे ही शिक्षकों, अध्यापकों एवं अतिथियों तक पहुंचा मंत्रीजी की आलोचना शुरू हो गई.

शिक्षकों की भर्ती के बारे में हुई बातचीत, बोले मंत्रीजी
शिक्षकों की चल रही भर्ती प्रक्रिया के तहत वेेरीफिकेशन किए जाने के बारे में मंत्रीजी का बताया गया. जिसके जबाव में मंत्रीजी ने कहाकि हमारी स्कूल शिक्षा की प्रमुख सचिव अरुण रश्मि शमी से बात हुई है, वो यह कह रही हैं कि सरकार की वित्तीय स्थिति ठीक नहीं हैं. इस कारण से अभी नियुक्ति लंबित रहेगी. हमने उनसे कहा है कि प्रक्रिया शुरू कर दो. हम एक-दो दिन में मुख्यमंत्रीजी को इस संबंध में बताएंगे. फिजिक्स, गणित एवं अंग्रेजी के शिक्षक पर्याप्त नहीं हैं. वे बता रही हैं कि 12,500 लोगों को नियुक्ति की पात्रता रहेगी. हमने कहा कि अभी तुम 12,500 के नाम निकालो. उनकी प्रक्रिया शुरू करो. इस काम में दो-चार महीने लग जाएंगे. वैसे भी अभी हमें मास्टरों की जरूरत नहीं है. सरकार अपने हिसाब से चलती है. वित्तीय स्थिति के हिसाब से और इस समय फोकट की तनख्वाह ले रहे हैं. 4-5 महीने से सभी शिक्षक घर बैठे. चाहे कालेज के हों या स्कूलों के शिक्षक. सभी मुफ्त में ले रहे हैं वेतन. हम लोगों ने तो अपना वेतन दे दिया सरकार को लेकिन उन्होंने अभी नहीं दिया.

Leave a Comment