मणिपुर में हिंसा जारी झड़प में 20 मैतेई महिलाएं घायल

दो महिलाओं को हालत बिगड़ने पर इंफाल हॉस्पिटल रेफर किया गया

इंफाल – मणिपुर में मैतेई और कुकी समुदाय के बीच जारी हिंसा को गुरुवार को तीन महीने पूरे हो गए। कुकी समुदाय ने गुरुवार सुबह 11 बजे हिंसा में मारे गए लोगों के शवों को चुराचांदपुर के टोइबुंग शांति मैदान में दफनाने की बात कही थी। इस पर मैतेई समुदाय ने ऐतराज जताया।
इसके विरोध में मैतेई समुदाय की महिलाओं ने गुरुवार सुबह बिष्णुपुर के थोरबुंग गांव की ओर कूच कर दिया। थोरबुंग में कुकी और मैतेई इलाके के बीच का बफर जोन है। मैतेई महिलाओं ने बफर जोन को पारकर कुकी इलाके में घुसने की कोशिश की।

सुरक्षाबलों ने उन्हें रुकने के लिए कहा। मैतेई महिलाएं नहीं मानीं, भीड़ को तितर-बितर करने के लिए असम राइफल्स ने हवाई फायरिंग की और आंसू गैस के गोले दागे।

मैतेई महिलाओं ने भी सुरक्षाकर्मियों पर पथराव किया। इस दौरान कई महिलाएं घायल हो गईं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के निवेदन पर ​​​​​​कुकी समुदाय के लोगों के शवों के अंतिम संस्कार का कार्यक्रम 5 दिन के लिए टाल दिया गया।
मोइरांग हॉस्पिटल के डॉक्टर्स ने बताया- शुरुआती 1 घंटे में यहां करीब 20 महिलाएं पहुंची थीं। ज्यादातर आंसू गैस के धुएं से बेहोश हो गईं। दो महिलाओं को हालत बिगड़ने पर इंफाल हॉस्पिटल रेफर किया गया। वहीं, एक महिला के सिर में चोट लगी।

शाह बोले- मैं मणिपुर पर जवाब दूंगा

गुरुवार को लोकसभा में दिल्ली में अधिकारियों की ट्रांसफर-पोस्टिंग से जुड़े विधेयक पर चर्चा करते हुए अमित शाह ने मणिपुर का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि मणिपुर के मुद्दे पर जितनी चर्चा करनी हो मैं तैयार हूं। मणिपुर के मुद्दे पर मैं जवाब दूंगा।

इंफाल में भीड़ ने लूटे हथियार

सूत्रों के मुताबिक इंफाल शहर में भीड़ ने मणिपुर रायफल्स के कैंप से हथियार चुरा लिए। वहीं, बिष्णुपुर के नारानसेना की दूसरी आईआरबी बटालियन से भी करीब 300 हथियार चुराने की खबर है।

Leave a Comment